प्यार अंधा होता है! इस टीचर ने जेंडर चेंज कर स्टूडेंट से की शादी, सच्चाई जान हो जाएंगे हैरान

अजब प्यार : एक अनोखी घटना सामने आई है, जो यह साबित करती है कि प्यार(Love) को अंधा क्यों कहा जाता है? एक स्कूल शिक्षिका(Teacher) ने अपनी ही स्टूडेंट(Student) से शादी(Marriage) कर ली, इसके लिए महिला टीचर ने अपनी जेंडर(Gender) चेंज सर्जरी कराई।

Strange Love Story: एक अनोखी घटना सामने आई है जो यह साबित करती है कि प्यार को अंधा क्यों कहा जाता है! एक स्कूल शिक्षिका ने अपनी ही स्टूडेंट से शादी कर ली, इसके लिए महिला टीचर ने अपनी जेंडर चेंज सर्जरी कराई। राजस्थान के भरतपुर में हुई ये अनोखी शादी सुर्खियों में छाई हुई है। आइये आपको बताते हैं इस चौंका देने वाली घटना के बारे में विस्तार से…

मीरा भरतपुर के एक राजकीय माध्यमिक विद्यालय में पीटी शिक्षिका के रूप में कार्यरत हैं, कल्पना नाम की एक स्टूडेंट इसी स्कूल में पढ़ती है। कल्पना एक कुशल कबड्डी खिलाड़ी हैं और तीन बार राष्ट्रीय स्तर पर खेल चुकी हैं, शिक्षिका मीरा को कल्पना का खेल पसंद था, यही कारण था कि टीचर मीरा को कल्पना से प्यार हो गया, टीचर ने मीरा के सामने अपनी भावनाएं व्यक्त की, इस पर कल्पना ने भी जवाब दिया। उनका प्यार परवान चढ़ा और उन्होंने शादी करने का फैसला किया।

जेंडर बदलने का लिया फैसला

 शादी करने का फैसला करने के बाद मीरा ने पहल की और अपना जेंडर चेंज करने का फैसला किया. इसके लिए उन्होंने सर्जरी करवाई। सर्जरी के बाद मीरा आरव बन गईं, इसके बाद कल्पना और आरव ने शादी कर ली। दिलचस्प बात यह है कि दोनों के परिवारों ने इसका विरोध नहीं किया। आरव की चार बड़ी बहनें हैं और चारों की शादी हो चुकी है।

पहले मीरा और अब आरव को महिला कोटे से एक सरकारी स्कूल में शिक्षिका की नौकरी मिली थी। मीरा का कल्पना से परिचय स्कूल में हुआ था। कल्पना ने भी जेंडर चेंज का समर्थन किया था, लेकिन अब आरव ने कहा कि नौकरी में नाम और जेंडर बदलने से उन्हें कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। इस शादी पर आरव के पिता का भी प्रतिक्रिया सामने आई है। उन्होंने कहा कि मेरी पाँच बेटियां हैं, हालांकि सबसे छोटी मीरा एक लड़की थी, लेकिन वह बचपन से ही एक लड़के की तरह रहती थी। लड़कों के साथ खेलती थी, अब खुश हूँ कि वो लड़का है और उसकी शादी से भी खुश हूँ।