Video: राजा भैया ने बच्चियों से कहा-‘बाहर भी जा तौ अवधी बोला करा’, वीडियो में अवधी का महत्व बताते हुए दिख रहे हैं राजा भैया

Awadhi Video: जनसत्ता दल पार्टी के विधायक कुँवर रघुराज प्रताप सिंह उर्फ़ राजा भैया का एक वीडियो बेहद वायरल हो रहा है। राजा भैया इस वीडियो में अवधी भाषा बोलने के लिए बच्चियों को अवधी का महत्व बताते नज़र आ रहे हैं…..

Raja Bhaiya: कुँवर रघुराज प्रताप सिंह ‘राजा भैया’ ढाई दशक से अधिक समय से कुण्डा विधानसभा के निर्दलीय विधायक रहें हैं। इस साल 2022 राजा भैया स्वयं की पार्टी ‘जनसत्ता दल लोकतांत्रिक’ से विधायक निर्वाचित हुए हैं।
राजीनीति में राजा भैया का कद हर कोई जानता है, लगातार विधायकी जीतने से लेकर मंत्री पद तक उनके राजनीतिक वर्चस्व का सबूत है। लेकिन राजा भैया का राजनीति से इतर भी एक चेहरा है जो आये दिन सोशल मीडिया के माध्यम से लोगो को देखने को मिलता है। ऐसा ही कुछ देखने को मिल रहा है इस वायरल वीडियो में जिसमें राजा भैया दो बच्चियों को अवधी बोलने को कह रहे हैं और उसका महत्व समझा रहें हैं।

‘अवधी बोला करा’, ‘अवधी आपन मातृभाषा अहय’

रघुराज प्रताप सिंह राजा भैया इस वीडियो में दोनों बच्चियों से कह रहे हैं- ‘तू सबै अंगरेजी बोलय लगबया तौ अवधी के बोली’। फिर राजा भैया ने अवधी का महत्व बताते हुए कहा-‘अवधी इसलिए महान भाषा है क्योंकि गोस्वामी बाबा ने अवधी में रामचरितमानस लिखा और अवधी अपनी पहचान है’। दोनों बच्चियों को समझाते हुए राजा भैया बोले-‘ जैसे हिंदी राष्ट्रभाषा वैसे ही अवधी मातृभाषा’,’कभौ बाहर जा तौ ई नाही कि अंगरेजी बोलय लागा अवधी बोला करा’,’हमरे चार बच्चे हैं चारो अवधी बोलते हैं’।
इस तरह वीडियो में राजा भैया अवधी भाषा को प्रचारित करते दिखाई दे रहे हैं। इस वीडियो को काफ़ी देखा जा रहा और लोग इसे खूब पसंद कर रहे हैं।

कुँवर रघुराज प्रताप सिंह राजा भैया का सफ़र

राजा भैया साल 1993 में पहला विधानसभा चुनाव कुण्डा सीट से लड़ा था जिसमें वे विजयी होकर विधायक बने । फिर तो जैसे जीतने का सिलसिला ही चल पड़ा । 1993 से लेकर 2022 तक वे लगातार विधायक बनते आ रहे हैं। राजा भैया दो बार मंत्री भी रह चुके हैं। एक बार बीजेपी के कल्याण सिंह की सरकार में तो दूसरी बार एसपी के मुलायम सिंह के सरकार में मंत्री बने थे

 

वर्तमान में राजा भैया अक्षय प्रताप सिंह (गोपाल भइया) के साथ मिलाकर एक नई पार्टी जनसत्ता दल लोकतांत्रिक का गठन कर चुके हैं जो पार्टी 2022 विधानसभा चुनाव में बड़ी राजनैतिक पार्टी के बराबर या अधिक सीटें जीतकर नई उभरती पार्टी बन गई है।